Sunday, April 15, 2012

याद आ रहे हो ...

आज बहुत नाजुक मिजाज है मौसम ,
ऐसे में तुम बहुत याद आ रहे हो ...
सफ़ेद- स्याह बादलों से झड़ती,
चाँदी- सी गिरती नर्म बूंदे...
हवा में है हल्की सी मदहोशी ,
पेड़ो ने झूम- झूम बिखराई पाती सारी...
राह में बिछी चांदनी की खुमारी ,
सर उठा देखूं घनघोर घटा में ,
इक तेरा चेहरा ही नजर आये ..
आज बहुत नाजुक मिजाज है मौसम ,
ऐसे में तुम बहुत याद आ रहे हो ...

11 comments:

  1. saral shabdon main shaandaar rachna likhti hain aap ,
    impresive,

    ReplyDelete
  2. याद है ही ऐसी...............
    चली आती है हर बदलते मौसम के संग.....................
    सुंदर भाव पूनम.
    अनु

    ReplyDelete
  3. सुंदर सरल मन के भाव.....

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी रचना.

    ReplyDelete
  5. सर उठा देखूं घनघोर घटा में ,
    इक तेरा चेहरा ही नजर आये ..
    आज बहुत नाजुक मिजाज है मौसम ,
    ऐसे में तुम बहुत याद आ रहे हो ...
    very very soft and sweet lines.

    ReplyDelete
  6. बदलते मौसम में वो अक्सर याद आते हैं ... बहुत खूब लिखा है ...

    ReplyDelete
  7. आज बहुत नाजुक मिजाज है मौसम ,
    ऐसे में तुम बहुत याद आ रहे हो ...

    awesome and mind-blowing lines

    ReplyDelete