Friday, January 25, 2013

क्या मै स्वतंत्र हूँ ?

दायरे - दायरे और दायरों मे दायरे ,
छोटे - बड़े , लंबे - चौड़े, गोल- चोकौर,
कहीं दिखते कहीं छिपते ,
कहीं वास्तविक कहीं काल्पनिक ,
कभी उभरते कभी झीने - झीने ,
देखो तो हर कोई सिमटा है ,
अपने - अपने दायरों के दरमियान ,
कौन है स्वतंत्र यहाँ ?
धार्मिक - सामाजिक - पारिवारिक ,
हर स्तर पर बंधा है हर कोई ,
स्वतन्त्रता एक जज्बा है ,
जो हर दिल मे सुलगता है ,
यह वो अनबुझी प्यास है ,
जिससे हर कोई झुलसता है ,
क्या मै स्वतंत्र हूँ ?
यह तो यक्ष प्रश्न है ????
?

10 comments:

  1. गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. जो हमेशा प्रश्न रहे ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना,,,
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    ReplyDelete
  4. बहुत बढि़या...गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,

    ReplyDelete
  5. गणतंत्र दिवस २६/०१/२०१३ विशेष ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. स्वतंत्रता के बड़े गूढ़ मायने हैं...
    विचारणीय रचना..
    गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !!

    अनु

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. यक्ष प्रश्न ,युधिष्ठिर कोई नहीं यहाँ जवाब देने केलिए .उम्दा प्रस्तुति .
    New postमेरे विचार मेरी अनुभूति: तुम ही हो दामिनी।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना,,,
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,

    ReplyDelete