Tuesday, March 5, 2013

सन्नाटे की आवाज़

क्या कभी सुनी है तुमने ,
सन्नाटे की आवाज़ ????एक ताल - लय - सुर है इसमे भी ,दिल को जो कर दे चाक ,वो टीस है इसमे ॥
 
भिगो दे भीतर तक ,वो रस-धार है इसमे ॥ जैसे अंधकार --- काला - गाढ़ा - घनघोर ..... पर भींच पलकें देखो ,इसमे भी अनेकों रंग ,गहरे - हल्के -स्याह - चितकबरे ,टिमटिमाते --- फुटते- अनेक सितारे ... करो बंद आँखें और देखो ... देखो तो सही ...
अजीब है न ?
चमकीला अंधकार ,सन्नाटे की आवाज़ ,या फिर सही है न ..... ?

2 comments:

  1. सन सन करती आती है सन्नाटे की आवाज़ ,है वह ब्रह्म नाद !
    latest post होली

    ReplyDelete