Sunday, February 16, 2014

रचती अपना आज ...कल.....काल ...

वह नहीं सह पाई ताप ,
तेरी जुदाई का ,
निकल पड़ी नंगे पाँव,
ठंडी - जलती बर्फ पे ,
भागती - दौड़ती ,
निकलता धुआँ तलवों तले ,
सिसकी - आहों से सर्द होंठ ,
जमती लकीरें जर्द गालों पे ,
 यादों - वादों की बनती पगडंडियाँ,
ऊबड़ - खाबड़ ,खोती शून्य में....
बनती लहू की टेड़ी- मेड़ी डगर ,
छिलती खाल-  झिल्ली - मांस ,
बनाती - उकेरती अद्भुत नक्काशी ,
रूखी - कठोर - भावशून्य - जमीन पर ...........
रचती अपना आज ...कल.....काल .........!!! 

9 comments:

  1. ,बेहतरीन प्रस्तुति...!लाजबाब
    RECENT POST -: पिता

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. जुदाई का गहरा भाव दिल को चीरता है ...

    ReplyDelete
  4. सुंदर अभिव्यक्ति। मेरे नए पोस्ट DREAMS ALSO HAVE LIFE.पर आपका इंतजार रहेगा। शुभ रात्रि।

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्यक्ति। मेरे नए पोस्ट DREAMS ALSO HAVE LIFE.पर आपका इंतजार रहेगा। शुभ रात्रि।

    ReplyDelete
  6. शानदार अभिव्यक्ति ......
    शुभकामनायें .........

    ReplyDelete