Monday, October 24, 2011

अपनी दिवाली


दिवाली के बाद का दिन कितना अच्छा होता है ,
सुबह - सवेरे निकल जाते हैं गली - मोहल्ले में ,
मिल जाते हैं कितने ही अधजले अनार ,पटाखे ,
स्याह - बुझी तीली से सटी कुछ फुलझड़ी ,
या कुछ अनफूटे - साबुत चकरी या बम ,
जूठन के ढेर में बची - खुची मिठाई ,
खील- बताशे , बर्फी या लड्डू एकाध ,
पार साल तो चली थी हवा बेशुमार ,
पा गए थे पूरा तेल और दिए अपार,
अम्मा ने भी तली थी पूरी- कचोरी और,
हमने जलाई थी रंग- बिरंगे दीपों की कतार,
खूब जम के होती है दिवाली हर बार ,
अपनी बस्ती भी करती है हुल्लड़ ,
दिवाली के बाद ..........हर बार ...............!!!!!

9 comments:

  1. दीपावली का यथार्थ अनुभव करवाया है आपने.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा पूनम जी.

    ReplyDelete
  2. आपको और आपके प्रियजनों को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  3. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  4. दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. दीपावली के बाद वली ये कविता बहुत अच्छी लगी !

    "जीवन पुष्प"
    www.mknilu.blogspot.com
    मनीष कुमार नीलू
    सदस्य बन रहा हूं।

    ReplyDelete
  7. दिवाली के बाद भी दिवाली ... बहुत खूब ...
    दीपावली की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  8. आपको दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    ReplyDelete