Thursday, January 5, 2012

khaas lamha

चंद छोटे से लम्हे के लिए ही सही ,
टूट कर किया मैने तुमसे प्यार |
 गर्म भाप उठी प्याले से चंद पलों के लिए,
दे गयी ताजगी उस वक़्त  |
गोलगप्पे की खटास उस पल में ,
जीभ को करती तुर्श उस क्षण |
हो फिर कुछ पल को ठंडी कुल्फी का
जुबान को सुन्न  करता आभास |
पहाड़ों पर गोल होती सडक का जैसे ,
खत्म हो  जाने का अहसास |
हवा के पलटे रुख के साथ ,
महीन आंचल का सरसराता स्पर्श |
किसी की याद मे भीगते - उलझते ,
बारिश की बूंद से गीले ज़ज्बात |
बाँहों के घेर मे उठी - गिरती ,
एकतार होती धड़कन की सरगम |
बस वही एक पल ...लम्हा ..क्षण..
....... होता है खास ....!!!!!


15 comments:

  1. बहुत ही खूबसूरत नज़्म है.
    उस ख़ास पल का अहसास तमाम उम्र को रौशन किये रखता है .

    ReplyDelete
  2. Aise kuch Lamhon mein hi jeevan saanse leta hai ... Lajawab likha hai ...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब कुछ अलग सा.........पेंटिंग बड़ी प्यारी है |

    ReplyDelete
  4. बहुत सार्थक प्रस्तुति, आभार|

    ReplyDelete
  5. किसी की याद मे भीगते - उलझते ,
    बारिश की बूंद से गीले ज़ज्बात |
    बाँहों के घेर मे उठी - गिरती ,
    एकतार होती धड़कन की सरगम |

    भावपूर्ण रचना के लिये बधाई !

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति,मन की भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति ......
    WELCOME to--जिन्दगीं--
    समर्थक बन रहा हूँ आपभी बने मुझे खुशी होगी,....

    ReplyDelete
  7. bahut bahut shukriyaa ..zarur dheerendra ji ..

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    ReplyDelete
  9. यादो में बसा का जी लेने का मन करता है ...हर ऐसे ही लम्हे को

    ReplyDelete
  10. Poonamji...har lamha behtareen hai...sundar kavita :)

    ReplyDelete
  11. mann ki bhavnao ko vyakt karti sundar prastuti

    ReplyDelete
  12. चंद छोटे से लम्हे के लिए ही सही ...

    अच्छी अभिव्यक्ति के लिए बधाई ..

    ReplyDelete
  13. नव वर्ष पर सार्थक रचना
    आप को भी सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  14. किसी की याद मे भीगते - उलझते ,
    बारिश की बूंद से गीले ज़ज्बात |
    बाँहों के घेर मे उठी - गिरती ,
    एकतार होती धड़कन की सरगम |
    wah kya khob likha likha hai poonam ji apne ....gahri anubhooti ...badhai

    ReplyDelete