Monday, May 7, 2012

प्रबल प्रेम

साहिल किनारे ..
चट्टान तले..
घुटनों मे दबाये ठुड्डी ..
बैठी वह ताक रही ..
दूर-- दूर तक 
फैला अनंत विस्तार ..........
सुर्ख सूरज की लाली ,
फैली लहरों के गालों पे ,
उचक - उचक हर लहर दीवानी ,
प्रेमी आकाश को चूमने को बेताब ....
अनुरागी नभ भी ,
छोड़ अपनी भव्यता ,
झुकने को तैयार 
सोचे वह ...
किसका है प्रेम प्रबल ....
यह झुकता असमान 
या लहरों का याचक गान ........

5 comments:

  1. कितना ही प्रबल प्रेम हो ,
    ना लहरें आसमां छू पाईं...ना आसमां उतरा धरती पर.......

    अनु

    ReplyDelete
  2. Prem ko jitna paribhaasit karne ki koshish karein kam hi lagta hai...

    ReplyDelete
  3. किसका है प्रेम प्रबल ....
    यह झुकता असमान
    या लहरों का याचक गान .......

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,....

    RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    ReplyDelete