Saturday, June 2, 2012

रहने दो ------!!!!!!

रहने दो 
आज ------
कुछ न कहो ,
पी लूँ ----
इस मौन को ...
उँगलियों के पोरों से ,
आँखों की झिर्रियों से ,
हथेली की लकीरों से,
लबों के स्पर्श से ,
सांसों की कम्पन से,
भुरभरी फुसफुसाहट से ........
रहने दो ---- आज ......
कुछ न कहो ......
मत पहनाओ ----
जामा रेशमी शब्दों का ,
अपनी भावनाओं को ------
रहने दो --- आज -----
नग्न यह जज्बा ---
मत बांधों ----
मत ढको--अहसास---
उघड़ने दो ---
कर दो अनावृत ---
बेनकाब -----
दे दो मुझे प्राण------ 
रहने दो --- आज---- कुछ न कहो ---- रहने दो ------!!!!!!



7 comments:

  1. रहने दो --- आज---- कुछ न कहो ---- रहने दो ------!!!!!!

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,,

    RECENT POST .... काव्यान्जलि ...: अकेलापन,,,,,

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन रचना,,,,,,

    ReplyDelete
  3. कुछ न कहने पर ही सब कुछ कह लिया जाता है।

    ReplyDelete