Sunday, October 14, 2012

वो एक रात

वो एक रात ,सात जन्मों वाली ,
वो एक शख़्स, उस रात का सरमाया ,
खो गए कहीं उस रात के बाद ..... 
रटता रहा ,हम है एक जान ,
तकता रहा, जो रात भर,
बिछुड़ गया भोर के साथ .... 
लबों को सी , नमी को पी ,
नही की कोई शिकायत ,
जिसको न हो क्द्र ही हमारी ,
उसको क्यों देखे हम मुड़ कर ....

12 comments:

  1. जिसको न हो क्द्र ही हमारी ,
    उसको क्यों देखे हम मुड़ कर ....
    sahi kaha.... aapne:)

    ReplyDelete
  2. हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  4. वाह,.... .....बहुत ही सुन्दर लगी पोस्ट ।

    ReplyDelete
  5. दिल की बात कह दी

    ReplyDelete
  6. बेहद भावपूर्ण प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST ...: यादों की ओढ़नी

    ReplyDelete
  7. वो एक रात, सात जन्मों वाली ,
    वो एक शख़्स, उस रात का सरमाया ,
    खो गए कहीं उस रात के बाद .....
    रटता रहा, हम है एक जान

    सुंदर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete