Monday, October 8, 2012

माँ तेरी जैसी


सब कहते हैं मैं तेरी तरह दिखती हूँ ,
तेरी तरह हँसती और रोती हूँ |
सुन कर गौरवान्वित हो जाती हूँ ,
पर माँ मेरी रोटी, तेरी तरह नहीं बनती ,
जैसी बनाती है तू ,नर्म - नर्म - गोल ,
पतली - करारी और ढेर सारा घी ,
मेरी रोटी वैसी क्यों नहीं बनती ......|
उबली दाल में वह हींग- जीरे का छौंक,
उसकी महक से ही भूख जाये लहक ,
माँ मेरी दाल से वह महक क्यों नहीं आती ...|
बासी रोटी की चूरी और खूब  सारी शक्कर ,
छाछ भरे ग्लास में तैरता ढेला भर मक्खन ,
माँ मेरी चूरी में शक्कर ठीक से क्यों  नहीं पड़ती ..|
टिफिन में परांठा और आम के आचार की फांक ,
जीभ को तुर्श कर जाये वह मीठी सी - खटास ,
माँ मेरी आचार की फांक में वह खटास क्यों नहीं आती ..|
स्टील के बड़े ग्लास में गर्म - गर्म  दूध की भाप ,
उस पर तैरती मोटी - गाढ़ी मलाई की परत ,
माँ मेरे दूध में वैसी  परत क्यों नहीं पड़ती ...|
जब मैं हूँ तेरी जैसी माँ......! 
 तो मेरी रोटी तेरी जैसी क्यों नहीं बनती ...???

15 comments:

  1. उम्र काफी हो चली मेरी अब नही है मेंरी माँ,
    आज भी टोटका करती "धीर"की होती जो माँ,,,

    RECENT POST: तेरी फितरत के लोग,




    ReplyDelete
  2. हम माँ की छवि जरुर है ...पर अपनी माँ जैसी नहीं ...बहुत खूब ..सच में

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  5. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. पूनम जी यही माँ की महिमा है . माँ बस मां है तब ही तो कहा गया है जननी जन्म भूमि ...........गरीयसी .

    ReplyDelete