Monday, December 10, 2012

किताब - सी


वह 
पुरातान ग्रन्थ सी ,
सिर्फ बैठेक की शेल्फ पर सजती हैं  |
वह
सस्ते नॉवेल सी ,
सिर्फ फुटपाथ पर बिकती हैं  |
वह
मनोरंजक पुस्तक सी
उधार लेकर पढ़ी जाती हैं  |
वह
ज्ञानवर्धक किताब सी ,
सिर्फ जरुरत होने पर पलटी जाती हैं  |
गन्दी , थूक, लगी उँगलियों से ,
मोड़ी, पलटी , और उमेठी जाती हैं |

पढ़ो हमें सफाई से ,
एक - एक पन्ना एहतियात से पलटते हुए ,
हम सिर्फ समय काटने का सामान नहीं ,
हम भी इन्सान है , उपहार में मिली किताब नहीं 

17 comments:

  1. बहुत सुन्दर पूनम जी....
    दिल को छू गयी ये पंक्तियाँ.

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से दिल की बात

      Delete
  2. बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही भावनामई रचना .बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  3. अक्षरश: सही कहा है आपने ... अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. ऐसा नहीं समझना चाहिए ...कीमती चीजों की कदर सब कहाँ समझ पाते है इसका मतलब यह कहाँ होता है की वह कीमती नहीं .

    ReplyDelete
  6. सही कहा है..सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. पढ़ो हमें सफाई से ,
    एक - एक पन्ना एहतियात से पलटते हुए ,
    हम सिर्फ समय काटने का सामान नहीं ,
    हम भी इन्सान है , उपहार में मिली किताब नहीं ,,,,

    बहुत उत्कृष्ट रचना....

    recent post: रूप संवारा नहीं,,,

    ReplyDelete
  8. बहुत ही शानदार........दिल को छूती पंक्तियाँ ।

    ReplyDelete