Monday, March 25, 2013

तेरी लाड़ली ... कमजोर नहीं

जब सुनहरे आसमान तले ,
लाडो के सपने फला करते थे,
भीगी - भीगी पलकों पे,
नित सपनीले ख्वाब उपजाते थे , 
दिन - रात खोई - खोई रहती थी ,
बिन बात हँसती - रोती थी ,

तब माँ का जिया हुलसता था ,
हर आहट पर मन धधकता था ,
दिन - रात पलकों पे कटते थे ,
घड़ी की सूईया गिनती थी ,
दरवाजे को हरदम तकती थी ,
एक और नसीहत बढ़ जाती थी ,

लाड़ो पलाश सी महकी - महकी ,
दावानल सी दहकी - दहकी ,
अम्मा बिचारी सहमी - सहमी ,
हँस कर बिट्टो ने मरहम लगाया ,
तेरा डर तो है बिलकुल जायज़ ,
कोमल हूँ माना , नाज़ुक भी पर ,
कमजोर नहीं तेरी लाड़ली ... कमजोर नहीं ॥

10 comments:

  1. तेरा डर तो है बिलकुल जायज़ ,

    बिटिया कमज़ोर नहीं होती ..१०० टक्का सही बात है :)

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया ,होली की शुभकामनाएं
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  3. बहुत सराहनीय प्रस्तुति.होली की शुभकामनाएं

    ले के हाथ हाथों में, दिल से दिल मिला लो आज
    यारों कब मिले मौका अब छोड़ों ना कि होली है.

    मौसम आज रंगों का , छायी अब खुमारी है
    चलों सब एक रंग में हो कि आयी आज होली है

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति........होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. "कोमल हूँ माना , नाज़ुक भी पर ,
    कमजोर नहीं तेरी लाड़ली ... कमजोर नहीं ॥"

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा सराहनीय अभिव्यक्ति ,,
    होली का पर्व आपको शुभ और मंगलमय हो!

    Recent post : होली में.

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना
    बहुत सुंदर

    होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. sunder bhawuk rachna

    आपको और आपके परिवार को
    होली की रंग भरी शुभकामनायें

    aagrah hai mere blog main bhi sammlit hon
    aabhar aapka

    ReplyDelete
  9. लाड़ो पलाश सी महकी - महकी ,
    दावानल सी दहकी - दहकी ,
    अम्मा बिचारी सहमी - सहमी ,
    हँस कर बिट्टो ने मरहम लगाया ,
    तेरा डर तो है बिलकुल जायज़ ,
    कोमल हूँ माना , नाज़ुक भी पर ,
    कमजोर नहीं तेरी लाड़ली ... कमजोर नहीं ॥

    होली की रंग भरी शुभकामनायें

    ReplyDelete