Thursday, June 27, 2013

मजनू दीवाना..

कल रात अलगनी पर लटकते चाँद को ,
गिरने से बचा लिया उसने ,
हौले से उठा हाथों मे ,
उछाल दिया आसमां मे,
चाँद बन गया आशिक उसका ,
उसकी याद मे घटने लगा ,
पर जब देखी छाप उसकी ,
जिस्म पर अपने इठला के ,
बढ़ने लगा ...... 
कहते है तब से ,
याद मे उसकी घटता औ बढ़ता है ,मजनू दीवाना..

12 comments:

  1. सुंदर रचना , यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/06/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  2. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें .

    ReplyDelete
  3. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात है क्या उपमेव और उपमान का सामंजस्य बिठाया है आपने खुबसूरत

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (01.07.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी. कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  6. अति सुन्दर भावाभिव्यक्ति । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  8. मन को छूती रचना ....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना
    मन को छूती हुई
    बधाई

    ReplyDelete