Saturday, July 6, 2013

स्मृति का खज़ाना

दिल के परदों मे जो बंद है,
स्मृति का खज़ाना ....... 
मेरा है सिर्फ मेरा ..... 
माफ करो नहीं बाँट सकती ,
खुदगर्ज़ ...स्वार्थी या मतलबी ,
जो भी कहो ...कुछ भी कहो ,
फरवरी की धूप सा ..... 
हल्का .... सौंधा ...कुनकुना ...
लपेट लेता है मुझे ,
तेरी बाहों की गर्माहट सा........

15 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन प्रस्तुति … बधाई

    ReplyDelete
  3. वाह !!! बहुत उम्दा लाजबाब प्रस्तुति,,,

    RECENT POST: गुजारिश,

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [08.07.2013]
    चर्चामंच 1300 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete

  5. बहुत सुंदर, आभार




    यहाँ भी पधारे
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_5.html

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत बधाई आपको .

    ReplyDelete
  8. यादें यादें यादें ... सिर्फ अपने अलेलेपन की साथी रहें तब तक ही ठीक रहता है ...

    ReplyDelete
  9. स्मृतियाँ कोई छीन भी नहीं सकता. सुंदर भाव सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  10. स्मृतियां अक्सर हमें लपेट लेती हैं अपने मे । सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete