Tuesday, August 20, 2013

याद दिलाती राखी


धागा कच्चा हो या पक्का ,
चमकीली हो या फीकी ,
कीमत नहीं प्यार के मेरी ,
भाई भेज रही हूँ वेब से राखी .... 
बचपन की याद है,
शरारतों की बरसात है ,
पतंग का माँझा ,लट्टू की डोर ,
माँ की धमकी, पापा की डांट,
उन सभी की याद दिलाती राखी ,
मेरी मांगो की लंबी लिस्ट ,
तेरे वादो की लंबी फेहरिस्त ,
कुछ पूरी , कुछ अधूरी ,
थोड़ा रूठना थोड़ा मनाना,
रोना - झिकना फिर खिलखिलाना ,
जाने क्या - क्या याद दिलाती राखी ,
साइकिल पर बैठा गली का फेरा ,
चोरी से बर्फ का गोला खाना ,
पूरी रात वी सी आर पर पिक्चर ,
टिनटिन और फ़ेन्टम की छीनाझपटी ,
बार - बार याद दिलाती यह राखी ....

12 comments:

  1. Behad sundar..aankh bhar aayi..pichhale maah apne sabse chhote bhaiko achanak kho diya...wo jo rakshabandhan kabhi nahi bhoolta aur ek bhai hai jo ek phone bhi nahi karta..aah!

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (22-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण- 93" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  3. शुभ सन्देश भेजती बचपन के यादों संग राखी बहुत खूब पूनम जी रक्षा बंधन की शुभकामना

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खुबसूरत और प्यारी रचना.....

    ReplyDelete
  5. आपकी आज कि यह पोस्ट बुधवार, २१ अगस्त २०१३ के ब्लॉग बुलेटिन - राखी कि शुभकामनाओं पर प्रकाशित की जा रही है | हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  6. धागा कच्चा हो या पक्का ,
    चमकीली हो या फीकी ,
    कीमत नहीं प्यार के मेरी ,
    भाई भेज रही हूँ वेब से राखी ....

    प्यारी रचना.....

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना , राखी की ढेरो शुभकामनाये

    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/08/blog-post_6131.html

    ReplyDelete
  8. पुरानी यादें समेटे भावपूर्ण रचना |

    ReplyDelete
  9. bahut khubsurat rachna hai,badhai.

    ReplyDelete