Friday, August 23, 2013

( तेरी याद बाकी है )

वो तुम्ही थे न ,
जो सर्दी , गर्मी , बरसात ,
सिकुढ़ते , जलते , भीगते ,
उस बिन टपरी वाले बस - स्टॉप पर करते थे ,
मेरा दिन भर इंतज़ार ........... 
जबकि पता था कि मै ,
नहीं आऊँगी , 
फिर भी .... क्यों ???? 
वो तुम्ही थे न ,
सर्दी , गर्मी , बरसात ,
सिकुढ़ते , जलते , भीगते ,
उस कुल्फी वाले से ले कुल्फी ,
पिघलने तक करते थे इंतज़ार ,
जबकि पता था कि मै ,
नहीं खाऊँगी ,
फिर भी क्यों.....??????
आज भी वह बिन टपरी का बस स्टॉप ,
वही खड़ा है,
वह कमबख्त कुल्फी वाला भी ,
बिना नागा घंटी बजता है ,
तुम नही, बस तुम नहीं .......सिर्फ मै ...अपने साथ ॥ ( तेरी याद बाकी है )

9 comments:

  1. तुम नही, बस तुम नहीं .......सिर्फ मै ...अपने साथ ॥

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात
    लाजबाब कविता
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (25-08-2013) के चर्चा मंच -1348 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  5. खुबसूरत अभिवयक्ति...... .

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete