Wednesday, August 15, 2012

कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है..

बरसों बीते गए देश को छोड़े ,
पर देश ने नहीं छोड़ा मुझको ,
सब सुख - सुविधाओं के बीच ,
मन हुलस- हुलस जाता है,
जब -जब आए होली दिवाली ,
या हो घर मे मुंडन- सगाई ,
देश तेरी बड़ी याद आई ॥ 
परियों का सा विदेश है यह ,
न बिजली जाने का गम ,
न ही मक्खी या मच्छर ,
साफ -सुथरी सड़कें यहाँ की ,
न हार्न को पीं-पीं -पों -पों ,
फिर भी न जाने क्यों ,
मन धूल - मिट्टी को तरस जाता है ॥
जानती हूँ नहीं मुमकिन अब ,
लौट के देश को जाना ,
न रही मै अब उधर की ,
अब तो इधर ही मन लगाऊँगी ,
लौटी तो वहाँ प्रवासी बन जाऊँगी ,
बड़ा कठिन अब वहाँ ताल -मेल बिठाना ,
कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है ,
अब कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है ..

13 comments:

  1. कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है ,
    अब कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है ..

    behtreen

    ReplyDelete
  2. sahi bat hai janbhumi ko bhulana aasan kam nahi....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर....मनोभावों को बखूबी लिखा है.

    अनु

    ReplyDelete
  4. यही यथार्थ और व्यावहारिक है फिर भी स्मृतियाँ जन्मभूमि का आभास कराती रहेंगी:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब लौटना नहीं संभव,
      भूत था वह वर्तमान है यह ,
      बच्चों के लिए भविष्य भी ,
      नहीं जानती कल क्या होगा ,
      पर तब तक यही सत्य है...,:)

      Delete
  5. अब कर्मभूमि मे ही मैने ,जन्मभूमि को ढूंढ लिया है ..
    koshish main bhi kar raha hoon\\\\\!!
    behtareen....

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब लौटना नहीं संभव,
      भूत था वह वर्तमान है यह ,
      बच्चों के लिए भविष्य भी ,
      नहीं जानती कल क्या होगा ,
      पर तब तक यही सत्य है...:)

      Delete
  6. सुख-सुविधा से परहेज ना हो,
    आँखें भी लबरेज ना हो;
    पर संस्कार ना कोई हरने पाए
    यह टीस कभी ना मरने पाए.

    ReplyDelete
  7. वे क़त्ल होकर कर गये देश को आजाद,
    अब कर्म आपका अपने देश को बचाइए!

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete