Monday, September 24, 2012

यूं ही करूँ छेड़- छाड़

तुझे तो ढंग से रूठना भी नहीं आता ,
होंठ कुछ और आंखे कुछ और ही बयां करती है॥ ---- ----- ---- ------ ---जा - जा पहले सीख के आ हुनर मनाने का ,मै भी फिर रूठना सीख लूँगी ॥------- ------- ----- ----- मुझसे न होवे यह मान मनोव्वल की बतिया ,मिलना हो तो मिल वरना हो चली रतिया ॥ ----- ---- ----- ----- ----- ---- ---- कितना निष्ठुर - निर्मम है रे तेरा मन ,मै ही ठहरी नादां ,जो करूँ तोसे मिलन की आस ॥
---- ----- ---- ----- ----- -----
हाय! तू क्या जाने बावरी कसक म्हारे जिया की ,
बिलखे - तड़पे थारे वास्ते दिन रात ॥
---- --- ---- ---- ---- ---- ---
अच्छा जी ! फिर काहे न करे है जतन ,
न ही करे प्रेम- मोहब्बत की बात ॥
--- --- ---- --- ---- ---- ---- ---
जब तमक जावे है तू ,चमके तोरे गाल ,
कितती प्यारी लागे है , इसलिए
 
यूं ही करूँ छेड़- छाड़ ॥

10 comments:

  1. यूं ही करूँ छेड़- छाड़ ,

    Behtreen

    ReplyDelete
  2. प्रशंसनीय रचना - बधाई

    Recent Post…..नकाब
    पर आपका स्वगत है

    ReplyDelete
  3. वाह....बहुत खूब....पहले वाला सबसे बढ़िया ।

    ReplyDelete
  4. वाह ,,, बहुत खूब पूनम जी,,

    छेडछाड बातों बिना ,बढ़ता नही प्रसंग
    प्यार मोहब्बत ही सदा,भरे प्रेम उमंग,,,,,

    RECENT POST समय ठहर उस क्षण,है जाता,

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव:)

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत सुन्दर भाव,,पूनम जी..

    ReplyDelete
  7. जब तमक जावे है तू ,चमके तोरे गाल ,
    कितती प्यारी लागे है , इसलिए
    यूं ही करूँ छेड़- छाड़ ॥

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति . शुद्ध आंचलिक भाषा का प्रयोग ....

    ReplyDelete
  8. वाह पूनम क्या खूब लिखा है आपने

    ReplyDelete