Monday, January 4, 2016

kambal ki garmahat

रुई के नरम - नर्म फाओं सी गिरती ,
कोमल शुभ्र चाँदनी - सी बिछती ,
गिर रही आसमानी बोरे से बर्फ .......
याद आ गया बचपन ,
जब अम्मा रुई धुनने वाले को बुला,
करती पहले घंटो हिसाब- किताब ,
दोनों ही दल देते अपनी - अपनी दलील ,
माहिर खिलाड़ी से जाँचते- परखते ,
एक - दूजे को....आखिर तय होता एक दाम............
हम तो इन सब बातों से बेखबर ,
बस करते रुई धुनने का इंतज़ार ,
उसकी तकली की तक - तक ,
मानो सप्त - स्वर का राग ,
हवा मे उड़ती रुई और
हमे मिल जाता खेलने का सामान,
हो जाती धर - पकड़ की शुरुआत ,
अम्मा की झिड़की से बे परवाह ,
बस एक मौके की तलाश ,
अब .........न है रुई धुनने वाला ,
न ही गली मे गूँजती उसकी आवाज़ ,
न अम्मा की झिड़की ,
न रही कंबल मे पहली सी गर्माहट ................PK

6 comments:

  1. आपने लिखा...
    और हमने पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 06/01/2016 को...
    पांच लिंकों का आनंद पर लिंक की जा रही है...
    आप भी आयीेगा...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. अति भावभरी रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना
    काफी दिनों से ब्लॉग अपडेट नही किया ????
    आत्मसात 

    ReplyDelete
  6. Wao! Good article. It is very useful for me to learn and understand easily. Thanks for sharing your valuable information and time. I Share this article with my frieds. Please Read: Pati Patni Jokes In Hindi, What Do U Do Meaning in Hindi, What Meaning in Hindi, Pati Patni Jokes in Hindi Latest

    ReplyDelete